May 23, 2013

कुछ रार अभी बाकी है....


अब कर द्वंद ,ना हुई कुंद ,कुछ धार अभी बाकी है
दिन या रैन, मिले न चैन ,कुछ रार अभी बाकी है
 
नही चढ़े रंग , बिना किए जंग , फन उठा भुजंग
तेरे जहर की मार अभी बाकी है ...... कुछ रार अभी बाकी है


 
 
तेरा यही धर्म, कर नेक कर्म ,नहीं कोई भ्रम
करना कुछ विस्तार अभी बाकी है ..... कुछ रार अभी बाकी है

कर घोर विरोध, और दिखा क्रोध, है नहीं अबोध
शेरों से तुझमे  ललकार अभी बाकी है ... कुछ रार अभी बाकी है
 
 
जब बहेगा रक्त, बदलेगा वक़्त , तू बनेगा सख्त  
करना ये इकरार अभी बाकी है ... कुछ रार अभी बाकी है
 

(रार - लड़ाई)

 -  विक्रम  ( भावभिव्यक्ति )

Share this:

Related Posts
Disqus Comments