Jul 22, 2010

एक वैवाहिक वेब साईट राजपूत समाज के लिए

रोजगार की तलाश में आज गांवों से हर कोई पलायन कर शहरों में बसता जा रहा है राजपूत समाज भी इस पलायन से अछूत नहीं है | अच्छे रोजगार,बच्चों के लिए अच्छी शिक्षा व्यवस्था व अच्छे रहन सहन की सुविधाओं के लिए राजपूत समाज के लोग भी शहरों में बस रहे है | चूँकि गांवों की अपेक्षा शहरों में जातीय समाज के लोगों से मिलना जुलना सीमित रहता है रिश्तेदारों से भी थोड़ी दूरियां बन जाती है और सबसे ज्यादा दिक्कत तब आती है जब बच्चे बड़े होकर रिश्ते करने लायक हो जाते है ऐसे मेंसीमित संपर्कों के चलते रिश्ते तलाशने और भी मुश्किल हो जाते है |
वैसे भी हर व्यक्ति इस सम्बन्ध में अपने पारिवारिक सदस्यों व रिश्तेदारों पर निर्भर रहता है जिनका भी दायरा सीमित होता है कई बार किसी का बच्चा उतना पढ़ा लिखा होता है कि उसके लिए जीवन साथी की तलाश अपनेसीमित दायरे में करना बहुत दुरूह हो जाता है |
राजपूत समाज को ऐसी ही मुसीबतों से निजात दिलाने के लिए श्री मग सिंह जी राठौड़ जो पूर्व केन्द्रीय मंत्री स्व.कल्याण सिंह जी कालवी के निजी सहायक होते थे ने एक राजपूत वैवाहिक वेब साईट जोग संजोग .कॉम की शुरुआत लगभग दो साल पहले की थी | इस वेब साईट में अपने बच्चों को रजिस्टर कर उनके लायक प्रोफाइल देखकर रिश्ते के लिए पसंद की प्रोफाइल के बच्चे के परिजनों से संपर्क कर रिश्ता किया जा सकता है | इस वेब साईट ने राजपूत समाज के योग्य युवाओं के लिए योग्य वर तलाशने का जरुरी व महत्तवपूर्ण मंच उपलब्ध कराया है |
राजपूत समाज में इस वेब साईट की जरुरत क्यों महसूस हुई और ये वेब साईट रिश्ते तलाशने में कैसे मदद करती है उसके बारे में इस साईट के अक्सर पूछे जाने वाले सवालों का जबाब निम्न दे रखा है



उपरोक्त लिख हुआ चित्र में है अत: बड़ा कर पढने के लिए इस पर क्लिक करें

15 comments:

honesty project democracy said...

अच्छा प्रयास व सार्थक शुरुआत ...

नीरज जाट जी said...

कुछ जाटों के लिये भी है क्या?

राज भाटिय़ा said...

बहुत सुंदर जी

नरेश सिह राठौड़ said...

बहुत बढ़िया जानकारी उपलब्ध कराई है आपने | वर्तमान समय में इस प्रकार की पहल की आवश्यकता भी है |

सत्य गौतम said...

जय भीम

ताऊ रामपुरिया said...

बहुत सुंदर प्रयास. जरा नीरज जाटजी की बात पर भी ध्यान दिया जाये.:)

रामराम

Ratan Singh Shekhawat said...

@ ताऊ जी
नीरज को जाट लेण्ड.कॉम पर पहुंचा दिया है वहां जाट मेट्रोमोनिल वेब साईट भी है जो नीरज के काम की है :)

कुमार राधारमण said...

ऐसी पहले प्रवासियों की ज़रूरत होती हैं। स्वागत योग्य कदम।

Yashpal singh songara (chouhan) said...

Such a great site about rajput's i like it thank's . . .jai jai rana pratap

Yashpal singh songara said...

Such a great site about rajput's history i like it thank's. . .keep it up jai maharana pratap ki

Rupesh singh Rajput said...

bahut hin sarthak prayas hai....swagat yogya hai....jai Rajputana

Sunil Girase said...

bahut achha prayas hai ham iska swagat karte hai aur isi traha age bhi aise kadam badaye jaye eske liye ham puri sayahate karenge
sunil rajput shirpur

Sunil Girase said...

bhahut hi achha kadam hai aise tarha age bhi ho iske liye ham pura sahyog karenge

Prem Chauhan said...

Rajputo ko sangathit karne, unki duriya kam karne , rishto ki jankari dena, Bhaut hi achha prayas hay.

nayansing chauhan said...

Jai RANA... we all deserve it cause we were on the top n we will on...just need like that intrigity among the warrior the brave RAJPUT....thanks shekhawat ji